बिजनेस एवं इंडस्ट्री विंग की नेशनल कॉन्फ्रेंस शुरू- उद्घाटन सत्र को दादी जानकी जी ने किया संबोधित

गुणों की लेन-देन का भी व्यापार करें: दादी जानकी
– बिजनेस एवं इंडस्ट्री विंग की नेशनल कॉन्फ्रेंस शुरू
– देशभर से पधारे 8 हजार से अधिक व्यापारी एवं उद्योगपति
– आध्यात्मिक ज्ञानोदय द्वारा व्यापार में स्वर्णिम युग
 
2 सितंबर, आबू रोड (निप्र)।
ब्रह्माकुमारीज संस्थान के शांतिवन परिसर में चल रही नेशनल कॉन्फ्रेंस में देशभर से करीब आठ हजार से अधिक व्यापारी और उद्योगपति पहुंचे हैं। कॉन्फ्रेंस का आयोजन बिजनेस एवं इंडस्ट्री विंग की ओर से  आध्यात्मिक ज्ञानोदय द्वारा व्यापार में स्वर्णिम युग विषय पर आयोजित की गई है।
उद्घाटन सत्र में संबोधित करते हुए मुख्य प्रशासिका दादी जानकी ने कहा कि देशभर से पधारे सभी व्यापारी भाई-बहनों का परमात्मा के घर में दिल से स्वागत है। यहां से सभी एक सबक लेकर जाएं कि आज से एक-दूसरे के गुण ही देखेंगे। गुणों की लेन-देन का ही व्यापार करेंगे। सदा याद रखें मैं एक आत्मा हूं और मेरा साथी, शिक्षक, सद्गुरु एक परमपिता परमात्मा है। जब साथी के साथ होकर चलेंगे तो सदा जीवन सुख-शांति और प्रेम रहेगा। हमारी दृष्टि सदा पवित्र हो। इस ईश्वरीय विश्व विद्यालय में ईश्वरीय पढ़ाई पढ़ाई जाती है। सदा एक-दूसरे को इंस्पायर करते रहें। हमारी जीवन यात्रा में ऐसी बातें हों जो सभी कहें कि जीवन हो तो ऐसा हो। परमात्मा सदा दयालु है। हम सभी परमात्मा के बच्चे हैं।
बिजनेस विंग की नेशनल को-ऑर्डिनेटर राजयोगिनी योगिनी बहन ने कहा कि  व्यापारी एवं उद्योगपति भाई-बहनें अपने व्यापार में आध्यात्म को शामिल कर लें तो व्यापार में भी स्वर्णिम युग आ जाएगा। फिर व्यापार भी ईमानदारी और सच्चाई-सफाई का व्यापार बन जाएगा। इस दौरान उन्होंने डॉयमंड हॉल में उपस्थित सभी मेहमानों को राजयोग की गहन अनुभूति भी कराई।
विंग के वॉइस चेयरपर्सन एमएल शर्मा ने अपने जीवन का अनुभव बताते हुए कहा कि मुझे बचपन से ही परमात्मा की खोज थी। ब्रह्माकुमारी•ा से जुड़कर मेरा पूरा जीवन बदल गया। जीवन में कई परेशानियां आईं लेकिन सभी ऐसे निकल गईं जैसे दही में से बाल निकलता है। जब हमारे जीवन में मूल्य होते हैं तो हम जो भी कर्म करते हैं वह भी फलदायी और सुखदायी होते हैं। परमात्मा के आशीर्वाद से आज व्यापार दिन-रात बढ़ रहा है।
प्रसिद्ध बिजनेसमैन सागर जेठानी ने कहा कि ब्रह्माकुमारी•ा से जुड़कर पता चला कि जीवन की असली सक्सेस है खुद को जानना  और खुदा को जानना। यदि जीवन में सुख-शांति और आनंद है तो वही जीवन की असली सफलता है। हम कितना भी पैसा कमा लें लेकिन यदि जीवन में आनंद नहीं तो वह पैसा व्यर्थ है।
स्वागत भाषण देते हुए बिजनेस एवं इंडस्ट्री विंग की मुख्यालय संजोजिका वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका बीके गीता ने सभी मेहमानों का स्वागत किया। साथ ही इस कॉन्फ्रेंस का पूरी तरह से सभी से लाभ लेना का आह्नान किया। कॉन्फ्रेंस की शुरुआत दादी के साथ सभी अतिथियों ने दीप प्रज्जवलित कर की। वहीं पालघर से पधारीं बालिकाओं ने सुंदर स्वागत नृत्य की प्रस्तुति दी। बीके हरीश भाई ने कॉन्फ्रेंस की रुपरेखा रखी। बीके मोहन भाई ने आभार व्यक्त किया।

40th ANNIVERSARY OF VILEPARLE-JUHU CENTRE

बापदादा के अति स्नेही, अथक सेवाधारी आदरणीय दैवी भाई तथा बहने
ओमशांति। ईश्वरीय यादप्यार स्वीकार करना जी।
विलेपार्ले सेंटर के ४० वे बर्थ डे के निमित्त आयोजित कार्यक्रम का समाचार –
दिनांक २२  अप्रैल २०१८ रविवार के दिन को विलेपार्ले सेंटर  के ४० वी वर्षगांठ पर विलेपार्ले के एकोल मंडल इंटरनॅशनल स्कूल के विशाल ऑडिटोरियम में भव्य कार्यक्रम का आयोजन हुआ।
इस कार्यक्रम में विलेपार्ले सबजोन के सभी टीचर्स तथा ८०० बी के भाई बहने उपस्थित थे।  साथ में सांताक्रूज़ सेवाकेंद्र की संचालिका बी के मीरा बहन, कमलेश बहन तथा अन्य टीचर्स बहाने भी उपस्थित थी।
कार्यक्रम का सूत्र संचालन बी के नम्रता और जानेमाने टीवी कलाकार भ्राता राज वर्मा जी ने किया।
कार्यक्रम का शुभारम्भ परमात्मा की मधुर स्मृति में बी के उमा बहन के मधुर गीत द्वारा हुआ।
अनेक सेंटर से पधारे डांस ग्रुप द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया।
प्रसिद्ध गायिका पूनम राज ने बहुत ही सुन्दर गीत प्रस्तुत किया।
तत्पश्चात महानुभावो को मंच पर आमंत्रित किया गया।
बी के योगिनी बहन – मुख्य संचालिका विलेपार्ले सबजोन
बी के मीरा बहन –  मुख्य संचालिका सांताक्रूज़ सबजोन
बी के अंसुला बहन
बी के दीपा बहन
बी के योगिनी बहन ने अपने वक्तव्य में कहा कि –
४० वर्ष पूर्व राजयोगिनी दादी प्रकाशमणि जी, दादी जानकी जी , दादी गुलज़ार जी, दादी निर्मलशांता जी के द्वारा अन्य महारथी भाई बहनो के उपस्थिति में विलेपार्ले सेंटर का उद्घाटन हुआ था।
विलेपार्ले सेंटर प्रारम्भ होने के पहले १९७६ में एक भव्य कांफ्रेंस तथा मेला –  DIVINISE THE MAN का आयोजन विलेपार्ले के मीठीबाई कॉलेज के पास के ग्राउंड पर हुआ था।  तब से जुहू विलेपार्ले एरिया में सेवाएं शुरू हो गयी।  स्वयं दादी प्रकाशमणि जी की प्रेरणा से यहाँ सेंटर की स्थापना की गयी।
पिछले ४० वर्ष की यात्रा में अनेकानेक प्रकार की सेवाओं का कांफ्रेंस, मेले, हेल्थ मेले, यात्राएं, मेडिकल कैंप, राजयोग शिविर के आयोजन होते रहे।  धीरे धीरे अन्य स्थानों पर भी सेवाकेंद्र खुलते गए।
वर्त्तमान समय वीलेपार्ले सबजोन के अंतर्गत २३ सेवाकेंद्र उपसेवाकेन्द्र सेवा में है।
VIP की सेवाएं भी बहुत अच्छी होती रही।  अनेक फिल्म कलाकार जुहू विलेपार्ले में रहते है उनसे भी संपर्क होता रहा।  रक्षा बंधन के निमित्त उनकी सेवा होती रहती है।  अनेक बिज़नेसमन और इंडस्ट्रियलिस्ट की भी अच्छी सेवा रहती है।
डबल विदेशी भाई बहनो की सेवाएं आज भी चल रही है। जब भी वे मधुबन जाते है तो बिच में १-२ दिन के लिए ओमनिवास सेंटर पर रूक कर फिर आगे की यात्रा करते है।
२००२ में मुंबई के अँधेरी में ग्लोबल हॉस्पिटल का उद्घाटन किया गया।  तब से लेकर हॉस्पिटल द्वारा बहुत ही अच्छी सेवाएं चल रही है। अनेक बी के महारथी भाई बहने हॉस्पिटल की सेवाओं का लाभ ले रहे है।
विलेपार्ले सेंटर यह व्यापर एवं उद्योग प्रभाग का नेशनल कोऑर्डिनेटिंग ऑफिस भी है।
संस्था के अनेक गीतों की कैसेट बनायीं गयी।  शुरू के समय भारत के सुप्रसिद्ध कवी प्रदीप जी, कवी भारत व्यास भी संपर्क में आये।  उन्होंने भी बाबा के बहुत अच्छे अच्छे गीत लिखे।
इस तरह से बी के योगिनी बहन ने ४० वर्ष की सेवा यात्रा का साक्षात्कार सभी को कराया।
बी के मीरा बहन ने अपनी शुभ कामनाये देते हुए सभी भाई बहनो का अभिनन्दन किया।
बी के अंसुला और बी के दीपा ने भी अपने दिल के भावनाये व्यक्त की और योगिनी दीदी के धन्यवाद और बधाई भी दी।
तत्पश्चात दीप प्रज्वलन तथा केक कटिंग कार्यक्रम हुआ।  इसमें अनेक आमंत्रित भाई बहनो ने भाग लिया और कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई।
डॉ राजेश वालंद जी ने अपनी सुमधुर आवाज में ख़ुशी का गीत प्रस्तुत किआ।
इस कार्यक्रम डॉ विवेक मेहन-कार्डियोलॉजिस्ट, बी के हरिशभाई, शशिकांत सींग भाई, जय भाई (लागोस), पियूष भाई और शीला बहन (अमेरिका), भद्रेश भाई ने शुभ कामनाये दी।
बी के कमलेश ने विलेपार्ले सेंटर को विशेष अभिनन्दन बधाई दी।
बी के तपस्विनी बहन ने दीदी साथ का और सेवाओं का अनुभव सुनाया।
बहन कृति पारेख ने मन की शक्ति के प्रयोग सब के सामने प्रस्तुत किये।
Dr. Kruti Parekh is India’s First Test-Tube Baby by Birth, an I.T Engineer by Education, World’s Youngest Artistic Illusionist & India’s Young Mind Genius . and a Phd in Magical Entertainment and Humanities from USA.
४० वर्ष की सेवा का संक्षिप्त समाचार फोटो स्लाइड शो के माध्यम से प्रस्तुत किया गया।
इस भव्य कार्यक्रम के लिए एकॉल मॉडियल इंटरनेशनल स्कूल ऑडिटोरियम सेवा के लिए प्राप्त हुआ. बी के योगिनी बहन ने एकोल मोंडिअल इंटरनेशनल स्कूल के चेयरमैन भ्राता प्रदीप सारदा जी का ईश्वरीय सौगात प्रदान कर सम्मान किया. उनके अनमोल सहयोग के लिए दिल से धन्यवाद दिया.
अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम पश्चात बी के प्रतिभा बहन ने सभी का आभार प्रदर्शन किया।
अंत में सभी भाई बहनो ने ईश्वरीय सौगात और स्नेह से ब्रह्माभोजन को स्वीकार किया।